Archive

रात को सोने से पहले : शक्तिशाली ज्‍योतिषीय उपचार Powerful astrological remedies every night

रात को सोने से पहले : शक्तिशाली ज्‍योतिषीय उपचार Powerful astrological remedies every night ज्‍योतिष के साथ यह भ्रांति बहुत गहरे तक धंसी हुई है कि ज्‍योतिषीय उपचार केवल रत्‍नों, यज्ञ, हवन अथवा उपासना से ही हो सकते हैं। हालांकि इन उपचारों से मना नहीं किया जा सकता,...

read more

ज्‍योतिष – कैसा होगा पति अथवा पत्‍नी : सातवें भाव में स्थित ग्रह का फल

ज्‍योतिष - कैसा होगा पति अथवा पत्‍नी : सातवें भाव में स्थित ग्रह का फल ज्‍योतिष के अनुसार किसी भी जातक के जीवनसाथी के बारे में मोटे तौर पर जानकारी मिल सकती है। ऐसा नहीं है कि केवल पुरुष की जातक कुण्‍डली देखकर ही उसकी पत्‍नी के बारे में सबकुछ बताया जा सकता हो या...

read more

नक्षत्र और शरीर के अंग Nakshatra and its effact on body parts

नक्षत्र और शरीर के अंग Nakshatra and its effact on body parts राशियों के इतर नक्षत्रों का भी कालपुरुष के शरीर के अंगों पर अधिकार होता है। कालपुरुष ज्‍योतिष शास्‍त्र का वह आदर्श पुरुष है जिस पर सभी भावों, राशियों, ग्रहों और नक्षत्रों का आरोपण किया जाता है। कालपुरुष के...

read more

भगवान श्रीकृष्‍ण की कुण्‍डली का विश्‍लेषण

भगवान श्रीकृष्‍ण की कुण्‍डली का विश्‍लेषण Analysis of horoscope of Lord Krishna सनातन मान्‍यता में विष्‍णु के दो अवतार ऐसे हुए हैं जिनकी कुण्‍डली भी उपलब्‍ध है। ज्‍योतिष शास्‍त्र में ऐसा माना जाता है कि ज्‍योतिष के विद्यार्थी को अपने अध्‍ययन में गहराई लाने के लिए इन...

read more

विग्रह और उसके आयाम : विशिष्‍ट होती हैं देवी देवताओं की मूर्ति और प्रतिमा

विग्रह और उसके आयाम : विशिष्‍ट होती हैं देवी देवताओं की मूर्तियां और प्रतिमाएं अपनी बात शुरू करने से पहले मूर्ति और प्रतिमा में अंतर करना होगा। प्रतिमा हम उसे कहेंगे जो स्‍मृति के अनुसार हमें जिस किसी संरचना का आभास अथवा अनुमान होता है, उसे प्रकट करने के लिए प्रतिमा...

read more

भाग्‍यशाली पुरुषों के लक्षण Physical character of A Lucky Man -1

भाग्‍यशाली पुरुषों के लक्षण Physical character of A Lucky Man - 1 कोई पुरुष कितना भाग्‍यशाली (LUCKY) होगा यह उसके अंग लक्षण (BODY) और शारीरिक संकेत (Physical Character) देखकर ज्ञात किया जा सकता है। किसी भी पुरुष जातक की अंगुलात्‍मक ऊंचाई, शरीर का वजन, चलने का अंदाज,...

read more

Lucky Dress भाग्‍यशाली परिधान

Lucky Dress भाग्‍यशाली परिधान क्‍या किसी जातक को उसके परिधान (Dress) उसे भाग्‍यशाली (Lucky) बना सकते हैं, इसका स्‍पष्‍ट जवाब हैं, हां। ज्‍योतिष में न केवल परिधान पहनने के लिए मुहूर्त का प्रावधान है बल्कि परिधान के प्रकार और रंगों के आधार पर भाग्‍य को उन्‍नत बनाने के...

read more

गैलेक्टिक सेंटर Galactic Center or Sun आकाशगंगा का केन्‍द्र

गैलेक्टिक सेंटर Galactic Center आकाशगंगा का केन्‍द्र गैलेक्टिक सेंटर (Galactic Center) आकाशगंगा का केन्‍द्र है। इसे आकाशगंगा का सूर्य भी कहा जाता है। इस केन्‍द्र के चारों ओर आकाशगंगा में शामिल सभी खगोलीय पिण्‍ड चक्‍कर लगाते हैं। इनमें हमारे सौरमण्‍डल का सूर्य और उसके...

read more

Astrological Nature of mobile ज्‍योतिष के अनुसार मोबाइल की प्रकृति

Astrological Nature of mobile ज्‍योतिष के अनुसार मोबाइल की प्रकृति मोबाइल (mobile) भले ही नया उपकरण हो, प्राचीन भारतीय या पाश्‍चात्‍य ज्‍योतिष में कहीं भी ऐसे उपकरण के बारे में सूचना नहीं मिलती है, लेकिन ज्‍योतिष सीधे उपकरण के वर्णन के बजाय वस्‍तुओं की प्रकृति के बारे...

read more

Job, career or business areas राशि के अनुसार नौकरी अथवा व्‍यवसाय के क्षेत्र

Job, career or business areas नौकरी अथवा व्‍यवसाय के क्षेत्र मेष: मेष राशि के स्वामी मंगल देव हैं। मंगल को पृथ्वी का पुत्र माना जाता है। इसका रक्त वर्ण है। जमीन, मकान, खेती एवं उससे जुड़े उपकरणों, दवाइयों के उपकरणों, वाहन विक्रय, खनिज, कोयला में निवेश करने वाले लोगों...

read more

Prediction for ketu in house in hindi according to lal kitab केतु : लाल किताब के अनुसार केतु के फलादेश

Prediction for ketu in house in hindi according to lal kitab केतु : लाल किताब के अनुसार केतू के फलादेश केतु अपने आप में कोई ग्रह नहीं है और अपने आप में पूर्ण भी नहीं है। एक ही राक्षस के दो भाग हुए, सिर वाला भाग राहू हुआ तो पूंछ वाला भाग केतु हुआ। ऐसे में केतु का कार्य...

read more