चंद्र प्रभा

19 POSTS 0 COMMENTS
ज्‍योतिषी चंद्रप्रभा मूल रूप से वैदिक ज्‍योतिष की विद्यार्थी और टैरो ज्‍योतिष की विशेषज्ञ हैं। भारत की राजधानी दिल्‍ली में रहती हैं और देश के कई प्रमुख समाचारपत्रों और वेबसाइट्स पर आपके नियमित रूप से लेख प्रकाशित होते रहते हैं। अब चंद्रप्रभाजी TheAstrologyOnline.com के ज्‍योतिष पैनल में शामिल हो चुकी हैं। आपकी ईमेल आईडी cprabha123@gmail.com है और फोन नम्‍बर 09953597789 है।

दुर्गास्तुति: durgastuti

श्रीमहाभागवत पुराण के अन्तर्गत वेदों द्वारा की गई दुर्गा स्तुति श्रुतय ऊचु: दुर्गे विश्वमपि प्रसीद परमे सृष्ट्यादिकार्यत्रये ब्रह्माद्या: पुरुषास्त्रयो निजगुणैस्त्वत्स्वेच्छया कल्पिता: । नो ते कोsपि च कल्पकोsत्र भुवने...

श्रीसंकटनाशनगणेश स्तोत्रम Shri Sankat Nashan Ganesh Strotam

श्रीसंकटनाशनगणेश स्तोत्रम Shri Sankat Nashan Ganesh Strotam नारद उवाच प्रणम्य शिरसा देवं गौरीपुत्रं विनायकम । भक्तावासं स्मरेन्नित्यमायु:कामार्थसिद्धये ।।1।। प्रथमं वक्रतुंण्डं च एकदन्तं द्वितीयकम । तृतीयं कृष्णपिंगाक्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम ।।2।। लम्बोदरं...

श्रीगणेशद्वादशनामस्तोत्रम

श्रीगणेशद्वादशनामस्तोत्रम सुमुखश्चैकदन्तश्च कपिलो गजकर्णक: । लम्बोदरश्च विकटो विघ्ननाशो विनायक: ।।1।। धूम्रकेतुर्गणाध्यक्षो भालचन्द्रो गजानन: । द्वादशैतानि नामानि य: पठेच्छृणुयादपि ।।2।। विद्यारम्भे विवाहे च प्रवेशे निर्गमे तथा । संग्रामे संकटे चैव विघ्नस्तस्य...

श्रीगणेश जी के विभिन्न स्वरुप Lord Ganesha

भगवान गणेश – Lord Ganesha सिन्दूरवर्णं द्विभुजं गणेशं लम्बोदरं पद्मदले निविष्टम । ब्रह्मादिदेवै: परिसेव्यमानं सिद्धैर्युतं तं प्रणमामि देवम ।। हिन्दी अनुवाद भगवान गणेश की अंगकान्ति सिन्दूर के समान है, उनकी...

गायत्री स्तोत्रम Gayatri strotam

महेश्वर उवाच जयस्व देवि गायत्रि महामाये महाप्रभे । महादेवि महाभागे महासत्त्वे महोत्सवे ।।1।। दिव्यगन्धानुलिप्ताड़्गि दिव्यस्त्रग्दामभूषिते । वेदमातर्नमस्तुभ्यं त्र्यक्षरस्थे महेश्वरि ।।2।। त्रिलोकस्थे त्रितत्वस्थे त्रिवह्निस्थे त्रिशूलनि । त्रिनेत्रे भीमवक्त्रे च भीमनेत्रे भयानके...

कामाक्षी माहात्म्यम Importance of kamakshi

कामाक्षी माहात्म्यम स्वामिपुष्करिणीतीर्थं पूर्वसिन्धुः पिनाकिनी। शिलाह्रदश्चतुर्मध्यं यावत् तुण्डीरमण्डलम् ।।1।। मध्ये तुण्डीरभूवृत्तं कम्पा-वेगवती-द्वयोः। तयोर्मध्यं कामकोष्ठं कामाक्षी तत्र वर्तते ।।2।। स एव विग्रहो देव्या मूलभूतोऽद्रिराड्भुवः। नान्योऽस्ति विग्रहो देव्याः काञ्च्यां तन्मूलविग्रहः ।।3।। जगत्कामकलाकारं नाभिस्थानं...

ग्रह, उनके मंत्र और जाप संख्या

हर ग्रह का अपना एक मंत्र हैं और मंत्रों का जाप कितनी संख्या में करना चाहिए यह भी हर ग्रह के लिए अलग है अर्थात...

ललितापंचकम् Lalita Panchkam

ललितापंचकम् प्रात: स्मरामि ललितावदनारविन्दं विम्बाधरं पृथुलमौक्तिकशोभिनासम् । आकर्णदीर्घनयनं मणिकुण्डलाढ़्यं मन्दस्मितं मृगमदोज्ज्वलभालदेशम् ।।1।। प्रातर्भजामि ललिताभुजकल्पवल्लीं रक्तांगुलीयलसदंगुलिपल्लवाढ़्याम् । माणिक्यहेमवलयांगदशोभमानां पुण्ड्रेक्षुचापकुसुमेषुसृणीदधानाम् ।।2।। प्रातर्नमामि ललिताचरणारविन्दं भक्तेष्टदाननिरतं भवसिन्धुपोतम् । पद्मासनादिसुरनायकपूजनीयं पद्मांकुशध्वजसुदर्शनलांछनाढ़्यम् ।।3।। प्रात: स्तुवे परशिवां ललितां भवानीं त्रय्यन्तवेद्यविभवां करुणानवद्याम् विश्वस्य सृष्टिविलयस्थितिहेतुभूतां विद्येश्वरीं निगमवाड़्मनसातिदूराम् ।।4।। प्रातर्वदामि ललिते...

शिवसहस्त्रनाम स्तोत्रम Shiv Sahatra naam Strotam

शिवसहस्त्रनाम स्तोत्रम Shiv Sahatra naam Strotam शुक्लाम्बरधरं विष्णुं शशिवर्णं चतुर्भुजम्। प्रसन्नवदनं ध्यायेत् सर्वविघ्नोपशान्तये॥ नमोऽस्तु ते व्यास विशालबुद्धे फुल्लारविन्दायतपत्रनेत्र। येन त्वया भारततैलपूर्णः प्रज्वालितो ज्ञानमयः प्रदीपः॥ नारायणं नमस्कृत्य नरं चैव नरोत्तमम्। देवीं...

श्रीदुर्गाष्टोत्तरशत नामस्तोत्रम

ईश्वर उवाच शतनाम प्रवक्ष्यामि श्रृणुष्व कमलानने । यस्य प्रसादमात्रेण दुर्गा प्रीता भवेत सती ।।1।। ऊँ सती साध्वी भवप्रीता भवानी भवमोचनी । आर्या दुर्गा जया चाद्या त्रिनेत्रा शूलधारिणी ।।2।। पिनाकधारिणी...

कुछ श्रेष्‍ठ लेख

Get Social

3,899FansLike
6,083FollowersFollow
3,475FollowersFollow
1,947SubscribersSubscribe
error: All content on this site is copyrighted.