Author: Sidharth Joshi

भाग्‍यशाली पुरुषों के लक्षण Physical character of A Lucky Man -1

भाग्‍यशाली पुरुषों के लक्षण Physical character of A Lucky Man – 1 कोई पुरुष कितना भाग्‍यशाली (LUCKY) होगा यह उसके अंग लक्षण (BODY) और शारीरिक संकेत (Physical Character) देखकर ज्ञात किया जा सकता है। किसी भी पुरुष जातक की अंगुलात्‍मक ऊंचाई, शरीर का वजन, चलने का अंदाज, संहति, सार, वर्ण, स्‍नेह यानी स्निग्‍धता, स्‍वर यानी शब्‍द, प्रकृति, सत्‍व, अनूक, क्षेत्र, मृजा यानी  पंचमहाभूतमयी शरीर छाया को जानकर किसी पुरुष के भाग्‍यशाली होने के लक्षण पता किए जाते हैं। वृहत्‍संहिता में पुरुषों और स्त्रियों के शुभ एवं अशुभ लक्षण दिए गए हैं। इस लेख में मैं चर्चा करूंगा पुरुषों के...

Read More

Lucky Dress भाग्‍यशाली परिधान

Lucky Dress भाग्‍यशाली परिधान क्‍या किसी जातक को उसके परिधान (Dress) उसे भाग्‍यशाली (Lucky) बना सकते हैं, इसका स्‍पष्‍ट जवाब हैं, हां। ज्‍योतिष में न केवल परिधान पहनने के लिए मुहूर्त का प्रावधान है बल्कि परिधान के प्रकार और रंगों के आधार पर भाग्‍य को उन्‍नत बनाने के उपाय भी दिए गए हैं। लोक व्‍यवहार में भी कहा जाता है बुध पहने बागा कदैई न रैवे नागा यानी बुधवार को जो नए वस्‍त्र धारण करता है उसे कभी परिधान की कमी नहीं रहती। विलासी परिधान पहनने के लिए तो शुक्रवार को विशेष दिन माना जाता है। अलग अलग क्षेत्रों...

Read More

गैलेक्टिक सेंटर Galactic Center or Sun आकाशगंगा का केन्‍द्र

गैलेक्टिक सेंटर Galactic Center आकाशगंगा का केन्‍द्र गैलेक्टिक सेंटर (Galactic Center) आकाशगंगा का केन्‍द्र है। इसे आकाशगंगा का सूर्य भी कहा जाता है। इस केन्‍द्र के चारों ओर आकाशगंगा में शामिल सभी खगोलीय पिण्‍ड चक्‍कर लगाते हैं। इनमें हमारे सौरमण्‍डल का सूर्य और उसके सभी पिण्‍ड भी शामिल हैं। यानी चंद्रमा पृथ्‍वी की परिक्रमा करता है, पृथ्‍वी सूर्य की परिक्रमा करती है और सूर्य आकाशगंगा के इस सूर्य की परिक्रमा करता है। सूर्य से इसकी दूरी करीब 25 हजार से 28 हजार प्रकाश वर्ष है। एक प्रकाश वर्ष का अर्थ होता है कि प्रकाश की किरण एक साल में...

Read More

Astrological Nature of mobile ज्‍योतिष के अनुसार मोबाइल की प्रकृति

Astrological Nature of mobile ज्‍योतिष के अनुसार मोबाइल की प्रकृति मोबाइल (mobile) भले ही नया उपकरण हो, प्राचीन भारतीय या पाश्‍चात्‍य ज्‍योतिष में कहीं भी ऐसे उपकरण के बारे में सूचना नहीं मिलती है, लेकिन ज्‍योतिष सीधे उपकरण के वर्णन के बजाय वस्‍तुओं की प्रकृति के बारे में अधिक सटीकता से बताती है। समय के साथ मोबाइल में भी तेजी से परिवर्तन आ रहा है, इसके बावजूद कुछ कंपनियों के मोबाइल की प्रकृति में एक निरंतरता है। उपकरणों की बनावट में एक निरंतरता है, एप्‍लीकेशंस को देखें तो हमे पता चलता है कि उन्‍हें उपयोग करने वाले एक विशेष...

Read More

Job, career or business areas राशि के अनुसार नौकरी अथवा व्‍यवसाय के क्षेत्र

Job, career or business areas नौकरी अथवा व्‍यवसाय के क्षेत्र मेष: मेष राशि के स्वामी मंगल देव हैं। मंगल को पृथ्वी का पुत्र माना जाता है। इसका रक्त वर्ण है। जमीन, मकान, खेती एवं उससे जुड़े उपकरणों, दवाइयों के उपकरणों, वाहन विक्रय, खनिज, कोयला में निवेश करने वाले लोगों को मंगल बहुत लाभ देता है।इस राशि के लोगों को किसी भी प्रकार के जोखिम, केमिकल, चमड़े, लोहे से संबंधित कार्य में निवेश करने से बचना चाहिए। जन्मपत्रिका में मंगल-चंद्र की युति हो तो व्यक्तिअति धनवान होता है। वृषभ: इस राशि का स्वामी शुक्र है। शुक्र चंचल ग्रह है तथा...

Read More