Author: Astrologer Sidharth

शश योग Shash Yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush Yog

शश योग Shash Yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush Yog शश योग (Shash Yog) मकर और कुंभ शनि की राशियां हैं तुला में शनि उच्च के होते हैं यदि इन राशियों में होकर शनि केंद्र से प्रथम, चतुर्थ, सप्तम अथवा दशम भाव में हो तो इस योग का निर्माण होता है। ऐसा जातक कद का मंझोला, शरीर का थोड़ा बहुत दुबला, दांत बाहर की ओर निकले, नेत्र अंतिचंचल और देखने में क्रोधान्वित प्रतीत होते हैं। शास्‍त्रकारों ने ऐसे नेत्रों को शूकर अथवा सुअर के नेत्र की उपमा दी है। ऐसा जातक राजा, सचिव, सेनापति और जंगल पहाड़ आदि...

Read More

मालव्य योग Malavya yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush Yog

मालव्य योग Malavya yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush Yog मालव्य योग (Malavya yog) मालव्य योग का निर्माण शुक्र करते हैं जब शुक्र वृषभ और तुला जो कि स्वराशि हैं या फिर मीन जो कि इनकी उच्च राशि है में होकर प्रथम, चतुर्थ, सप्तम या फिर दसवें भाव में विराजमान हों तो यह योग मालव्य महापुरुष योग कहलाता है। ऐसे योग वाले जातक की चेष्‍टा और नेत्र स्त्रियों के सदृश्‍य सुंदर, शरीर का मध्‍य भाग किंचित दुबला अर्थात पतली कमर, नाक ऊंची, बलवान, गुणवान और शास्‍त्रों के भाव का जानने वाला, तेजस्‍वी, धनी तथा स्‍त्री, पुत्र एवं वाहन...

Read More

हंस योग Hamsa yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush Yog

हंस योग Hamsa yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush Yog हंस योग (Hamsa yog) इस योग का निर्माण देवगुरु ग्रह बृहस्पति करते हैं। जब गुरु स्वराशि धनु या मीन या फिर अपनी उच्च राशि कर्क में होकर पहले, चौथे, सातवें या दसवें भाव में बैठे हों तो इसे हंस महापुरुष योग कहते हैं। ऐसे योग वाला जातक आकृति में खूब लंबा सुंदर पांव, रक्‍तवर्ण की नखें और मधुवर्ण नेत्र वाला होता है। यह भी बताया गया है कि ऐसा जातक 86 अंगुल ऊंचा होता है। ऐसा जातक विधा में निपुण, शास्‍त्रों को जानने वाला, सुखी, बड़े लोगों से...

Read More

भद्र योग Bhadra yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush yog

भद्र योग Bhadra yog – पंच महापुरुष योग Panch Mahapurush yog भद्र योग (Bhadra yog) बुद्धि के कारक बुध इस योग का निर्माण उस समय करते हैं जब वे स्वराशि जो कि मिथुन एवं कन्या हैं के होकर केंद्र भाव यानि प्रथम, चतुर्थ, सप्तम अथवा दशम स्थान में बैठे हों तो भद्र महापुरुष योग का निर्माण करते हैं। ऐसे योग वाले जातक का सिर सिंह के समान चाल हस्‍ती के समान उरू और वक्ष स्‍थल ऊंचे और पुष्‍ट, हाथ पैर लंबे और मोटे सजीली कुक्षी और आकृति में लंबा तलहथी एवं तलवे सुंदर गुलाबी रंग के कमल पुष्‍प के...

Read More

रुचक योग Ruchak Yog – पंच महापुरुष योग Panch Maha Purush Yog

रुचक योग Ruchak Yog – पंच महापुरुष योग Panch Maha Purush Yog रुचक योग (Ruchak Yog) पंच महापुरुष योगों में मंगल की स्थिति से जो योग बनता है वह रूचक योग कहलाता है। जब जातक की कुंडली में मंगल स्वराशि यानि मेष या वृश्चिक या फिर उच्च का जो कि मकर में होता है होकर जातक की कुंडली के प्रथम, चतुर्थ, सप्तम या दशम भाव यानी केन्‍द्र में बैठा हो तो रूचक महापुरुष योग का निर्माण होता है। ऐसे योग में जन्‍म लेने वाला जातक सुंदर, कोमल एवं कांतियुक्‍त आकृति का होता है। उसके शरीर के अंग सुडौल, भृकुटी सुंदर,...

Read More