गुजरात विश्‍वविद्यालय में ज्‍योतिष पाठ्यक्रम शुरू (Astrology course)

अहमदाबाद। गुजरात विश्‍वविद्यालय ने मंगलवार को छह माह का ज्‍योतिष एवं वास्‍तु का पाठ्यक्रम शुरू किया है। विश्‍वविद्यालय के संस्‍कृत विभाग के अध्‍यक्ष कमेलश कुमार चौकसी ने बताया कि इस क्षेत्र में ज्‍योतिष और वास्‍तु विशेषज्ञों की मांग को देखते हुए यह पाठ्यक्रम शुरू किया गया है।

चौकसी ने बताया कि कई निजी संस्‍थान इस प्रकार के कोर्स करवा रहे हैं, लेकिन विश्‍वविद्यालय स्‍तर पर पहली बार ऐसा प्रयास हुआ है।

इस पाठ्यक्रम को कोस्‍मो रिसर्च फाउंडेशन के संयुक्‍त तत्‍वावधान में शुरू किया गया है। यह फाउंडेशन शिक्षक एवं पाठ्य सामग्री उपलब्‍ध कराएगा। पाठ्यक्रम में थ्‍योरी और प्रेक्टिकल कक्षाओं का भी प्रावधान है। इसके तहत छात्रों को विषय संबंधी प्रोजेक्‍ट भी दिए जाएंगे। कोर्स के लिए प्रवेश की प्रक्रिया एक अगस्‍त 2016 को शुरू होगी और 4 अगस्‍त से कक्षाएं शुरू हो जाएंगी।

चौकसी ने बताया कि संस्‍कृत विभाग के कुछ शिक्षक और कुछ प्रोफेनल शिक्षक छात्रों को विषय पढ़ाएंगे

कोस्‍मो रिसर्च फाउंडेशन के ट्रस्‍टी मौलिक भट्ट ने बताया कि हर क्षेत्र के लोगों को ज्‍योतिष में रुचि होती है। ऐसे में विश्‍वविद्यालय से निकलने वाले क्‍वालिफाइड प्रोफेशनल्‍स इन लोगों की अच्‍छी मदद कर सकते हैं।

चौकसी बताते हैं समय के साथ ज्‍योतिष को गंभीर विषय के तौर पर लिया जाने लगा है। समाचारपत्रों, न्‍यूज चैनल और पुस्‍तकों के चलते यह विषय मुख्‍य धारा में आ चुका है। ऐसे में इस क्षेत्र में दक्ष विशेषज्ञों की जरूरत महसूस की जा रही है। कोस्‍मो रिसर्च के साथ मेमोरंडम ऑफ अंडरस्‍टेंडिंग पर हस्‍ताक्षर करने वाले चौकसी ने बताया कि जिस प्रकार की रुचि इस विषय को लेकर देखी जा रही है उसे देखते हुए सर्टीफिकेट कोर्स के बाद शीघ्र ही डिग्री कोर्स भी लांच किया जा सकता है।


Gujarat University launches astrology, vaastu courses

Ahmedabad: Gujarat University on Tuesday launched a 6-month certificate course in astrology and vaastu. Kamleshkumar Chokshi, the GU head of department of Sanskrit, said there was great demand for astrologers and Vaastu Shastra specialists.

“There are many private institutions that offer a similar course but this is the first time that Gujarat University is offering the course,” said Chokshi.

The course will be conducted in collaboration with Cosmo Research Foundation, a trust which will be responsible for facilitating teachers and study material. It will include both theory and practical classes and provide projects for students to have hands-on experience in the subject. The admission process for the course will begin from August 1, 2016 and classes from August 4, 2016.

“Some teachers from the Sanskrit department and some professional astrologers will be among the teachers of the course,” Chokshi said.

“People from all walks of life have shown an interest in astrology. We hope to produce qualified astrological advisors and counsellors who would offer useful advice people,” said Maulik Bhatt, trustee of Cosmo Research Foundation, a divination and alternative medicine therapy firm.

Chokshi said that astrology was now considered a serious subject of study.

“It has become a mainstream subject because of newspapers, news channels and books that offer astrological advice. We need more qualified professionals in the field,” said Chokshi.

“We’ve received a lot support for launching the course from students and authorities. I am hoping to elevate it to a degree course some day,” said Chokshi who signed the Memorandum of Understading with Cosmo Research Foundation to run the course.

Source : TOI