राष्‍ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालप्रसाद यादव (Lalu prasad yadav) का जन्‍म 11 जून 1948 को सुबह 9 बजकर 17 मिनट पर गोपालगंज में हुआ है। इससे उनकी सिंह लग्‍न की कुण्‍डली बनती है। सिंह राशि में आए गुरु ने जहां उनकी राजनीति में वापसी की राह को आसान बनाया, वहीं वर्ष 2016 में इसी राशि में गुरु और राहू की युति उनके लिए कई चुनौतियां लेकर आएंगी। पार्टी अथवा गठबंधन में कलह और वाणी पर संयम की कमी के कारण होने वाले नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

इसके बावजूद लालप्रसाद यादव के लिए यह साल कुछ मायनों में विशिष्‍ट होगा। इस साल वे राजनीति में अपनी स्थिति को बहुत हद तक स्थिर कर पाएंगे। पिछले सालों में हुए डैमेज की तुलना में इस बार साख और स्थिति में अपेक्षाकृत सुधार होगा। वाणी पर संयम नहीं रखने पर उन्‍हें पार्टी के भीतर ही कई प्रकार के विरोधों का सामना करना पड़ सकता है।

साल के मध्‍य तक पार्टी अथवा गठबंधन में कलह का वातावरण बनेगा, यहीं से उन्‍हें अपनी स्थिति पुख्‍ता करने की जरूरत पड़ेगी। वर्तमान में वे जिस दौर से गुजर रहे हैं, उसमें भले ही उनके पास पार्टी सुप्रीमों की हैसियत हो, लेकिन सरकार में उनकी निजी तौर पर कोई हैसियत नहीं है। साल के मध्‍य में होने के वाले तनाव का असर पार्टी के साथ गठबंधन पर पड़ेगा और इसके बाद उनकी स्थिति स्थिर होने के संकेत मिल रहे हैं।

फल निर्णय के तौर पर लालप्रसाद यादव की स्थिति 2016 में अधिक सुदृढ़ होगी, छवि को लौटा लाने का प्रयास रहेगा और कलह का दौर शुरू होगा।