संतान पुत्र होगा या पुत्री (Santan)

इस विषय को लेकर आज तक मैंने कुल 23 फलादेश दिए हैं। इनमें से 21 सही रहे और दो गलत। दो फलादेश गलत रहने का कारण भी यह रहा कि मुझे जो जानकारियां मुहैया कराई गई थी वे गलत निकली। बाद में जातक ने अपनी गलती स्वीकार की और मेरे फलादेश को माना।

वैसे भारत सरकार के कानून के मुताबिक लिंग परीक्षण (Gender determination) करना गैरकानूनी है। इसके बावजूद सोनोग्राफी वाले अंधाधुंध कमाते हैं। हर किसी को पुरुष संतान (Sanatan) की चाह है। अब आप यह सोच रहे होंगे कि मैं सोनोग्राफी वालों के पीछे ही पडा रहूंगा या बताउंगा भी कि आपके संतान (Santan) पुत्र होगा या पुत्री।

संतान का लिंग पता करने के बारे में मेरे गुरूजी से पूछा तो उन्होंने जो उत्तर दिया वह अतार्किक लगा। उन्‍होंने कहा संतान ईश्‍वर की देन है इस बारे में हमें फलादेश करने की मनाही है। इस विषय को न ही छेड़ें तो बेहतर होगा। बाद में भले ही मुझे उनकी बात खरी लगने लगी हो लेकिन उस समय मैं जोश में था और पता करना ही चाहता था।

संतान के बारे में निर्णय करने के लिए मेरा खुद का तरीका विकसित किया। इसके लिए मैं पहले जातक की कुण्डली देखता हूं और पता करता हूं कि जातक अमीर बनने के योग हैं या नहीं, दूसरा आने वाले दिनों में जातक धक्के खाता फिरेगा या उसके जीवन में स्थिरता आएगी, तीसरा जातक की पारिवारिक पृष्ठ भूमि कैसी है, चौथा फिलहाल जातक की आर्थिक स्थिति कैसी है, पाँचवाँ जातक के चंद्रमा की क्या स्थिति है। तो मेरे जातक से सवाल होते हैं…

1 अभी आपके पास कितना पैसा है
2 आने वाले दिनों की क्या योजना है
3 जातक के पिताजी क्या करते हैं

अगर तीनों चीजें फेवरेबल हो तो कुण्डाली में देखता हूं कि जातक का खुद का चंद्रमा किस स्थिति में है। अगर चंद्रमा खराब हुआ और ऊपर की स्थितियां फेवरेबल हुई तो जातक के अवश्य कन्या होगी।

और यदि जातक का बैंक बैलेंस खत्म सा हो गया हो, नौकरी में प्रमोशन रुका हुआ हो, पिता ने घर से निकाल दिया हो, रात को समय पर नींद नहीं आती हो और पत्नीर का वज़न बढता जा रहा हो तो जातक को पुत्र संतान की प्राप्ति होगी।

ऐसा क्यों ? इसके दो कारण हैं। पहला, जातक की असुरक्षा की भावना जितनी अधिक प्रबल होती जाती है, जीवन की समस्याएं जितनी अधिक होती हैं पुरुष संतान होने की संभावना बढ़ जाती है। मैं मानसिक स्‍तरों और इसकी कार्यप्रणाली के बारे में अधिक तो नहीं जानता लेकिन अनुमान लगा सकता हूं कि साइकोलॉजिकली होता यह होगा कि जातक का अवचेतन यह निर्णय करता होगा कि अब अपना तो खेल खत्म हुआ अगली पीढ़ी में अपने रक्त का संचार करने के लिए पुत्र छोड़ दें।

दूसरा कारण चंद्रमा का है। चंद्रमा की स्थिति बेहतर होने पर जातक निश्चिंत स्व्भाव का हो जाता है। ऐसे में समृद्धि बढ़ाने पर ध्यान नहीं दे रहा होता तो गुणसूत्रों में वाई का अनुपात बढ़ जाता होगा। अधिकांश विज्ञान के विद्यार्थी समझ जाएंगे कि ऐसे कैसे वाइ बढ़ सकता है। दोनों विपरीत परिस्थितियां मिलकर पुत्र होना सुनिश्चित करती हैं।

वहीं जिस जातक का स्थाईत्‍व लगातार बढ़ता जा रहा हो, उसके गुणसूत्रों में वाइ का अनुपात घट जाता होगा। ऐसे में कन्या की प्राप्ति होने की संभावना बहुत हद तक बढ़ जाती है। इसमें चंद्रमा का रोल यह रहता है कि कुण्डली में चंद्रमा की खराब स्थिति मानसिकता को ऐसा कर देती है कि मनुष्य लगातार ऊपर चढ़ने का प्रयास करता है। ऐस में कन्या बुध के रूप में उसे अतिरिक्त सहायता देने के लिए आ जाती है।

यह मेरा अनुभूत नियम है कि जिस जातक के कन्या संतान हुई वह या तो पैसे वाला पहले से बन रहा था वरना कन्या संतान के साथ ऐसी परिस्थितियां बनी कि वह पैसे वाला बन गया। अगर अमीर नहीं तो खाते-पीते परिवार का मालिक तो बना ही है। इसके उलट मेरे कुछ जातक पुत्र के जन्म के बाद ट्रांसफर, पैसे का नुकसान, व्यापार में धक्के्, सामाजिक प्रतिष्ठा में गिरावट का दंश भोग रहे हैं।

मेरे एक दोस्त को इस बारे में जानकारी थी। जब मैंने उससे पूछा कि अभी तुम्हारी माली हालत कैसी है तो उसने चट से जवाब दिया कि बिल्कुल कड़का हूं। मैंने पूरे आत्मसविश्वास के साथ कहा कि तुम्हें पुत्र रत्न की ही प्राप्ति होगी। बाद में उसके पुत्री हुई। मैंने माफी मांग ली, तो मित्र ने बताया कि उसकी दादी मेरे मुंह से पोता होने की बात ही सुनना चाहती थी इसलिए उसने झूठ बोला कि वह कड़का है।

मेरे आस-पास रहने के कारण उसे इस पद्धति के बारे में जानकारी थी। उसने अपने भाई के बिजनेस में कुछ लाख रुपए लगा रखे हैं। जो लगातार बढ़ रहे हैं। जब उसने खुलासा किया तो मैं बहुत झल्लाया। खैर जो भी हो, मेरा फलादेश गलत होकर भी अधिक सही रहा।

गर्भ में लड़का है या लड़की, केरलीय ज्‍योतिष से जानें

संतान के लिंग निर्धारण के विषय में ज्‍योतिष कभी घोषणा नहीं करता है। ज्‍योतिष की यह गणना मात्र एक संकेत की तरह ही होती है, इसके अनुसार अधिकतम संभावना के बारे में बताया जा सकता है, लेकिन न तो इसे अंतिम माना जाना चाहिए और न ही किसी प्रकार के निर्णय के लिए इस सलाह को काम में लिया जा सकता है। लिंग निर्धारण के बजाय संतान की संभावना के संबंध में सवाल पूछा जा सकता है।

Ask your Prashna Click here