सुखी दांपत्‍य के लिए टोटके

सुखी दांपत्‍य के लिए टोटके : दांपत्‍य जीवन में पति पत्‍नी का रिश्‍ता केवल विश्‍वास पर ही टिका रह सकता है, अगर पति को पत्‍नी में और पत्‍नी को पति में विश्‍वास हो तो अधिकांश समस्‍याओं का निराकरण स्‍वत: ही हो जाता है। अगर दोनों के बीच विश्‍वास के साथ प्रेम भाव भी हो तो सोने में सुगंध जैसा काम हो जाता है। परन्‍तु कई बार स्थितियां ऐसी बनती हैं कि विश्‍वास डोल जाता है और प्रेम का अभाव भी दिखाई देने लगता है, ऐसे में गृहस्‍थी की गाड़ी पटरी से उतरने लगती है।

गृहस्‍थी को सुखी और सरल बनाने के लिए पति पत्‍नी का संबंध सरस और मधुर बना रहना जरूरी है, जिस दौर में इन संबंधों में खटास आने लगे या गलतफहमियां सिर उठाने लगें, तब आर पार की लड़ाई से बेहतर है कि कुछ दैवीय सहायता प्राप्‍त कर ली जाए, इसके लिए हम यहां कुछ टोटके दे रहे हैं, ये टोटके पूर्व में किसी न किसी के लिए लाभदायी सिद्ध हुए हैं, आपके लिए भी उपयोगी साबित हो सकते हैं।


रात में सोते समय पत्नी के पलंग पर देसी कपूर तथा पति के पलंग पर कामिया सिंदूर रखना चाहिए। अगले दिन सुबह सूर्योदय के समय पति को देसी कपूर जला देना चाहिए तथा पत्नी को सिंदूर को घर में फैला देना चाहिए। यह एक तीव्र तांत्रिक उपाय है, इससे कुछ ही दिनों में पति-पत्नी का आपसी झगड़ा पूरी तरह खत्म हो जाता है।


बरगद का हरा पत्ता लेकर उस पर लाल चंदन को गंगा जल में घिसकर संबंधित व्यक्ति का नाम लिखें। इसके बाद पत्ते पर लाल गुलाब की पत्तियां रख दें और इन सबको बारीक पीस लें। जिस व्यक्ति का नाम लिखा है, उसके नाम में जितने अक्षर हैं, इस बारीक बुरादे की उतनी ही गोलियां बना लें। रोजाना एक गोली नियम से उस व्यक्ति/ महिला के घर के मेन गेट पर फेंक दें। जल्दी ही दोनों के बीच विछोह दूर होकर आपसी संबंध अनुकूल होंगे तथा वापिस मिलन होगा।


यदि किसी के घर में बहुत ज्यादा क्लेश या झगड़ा रहता है तो वह इस उपाय को कर सकता है। जब भी घर में आटा पिसवाना हो तो केवल सोमवार को ही पिसवाएं। पिसवाने से पहले उसमें थोड़े से काले चने डाल दें। इस मिश्रित आटे को ज्यों-ज्यों घर के सभी लोग खाएंगे, घर के सभी झगड़े दूर हो जाएंगे।


प्रेम विवाह में सफल होने के लिए : यदि आपको प्रेम विवाह में अडचने आ रही हैं तो : शुक्ल पक्ष के गुरूवार से शुरू करके विष्णु और लक्ष्मी मां की मूर्ती या फोटो के आगे “ऊं लक्ष्मी नारायणाय नमः” मंत्र का रोज़ तीन माला जाप स्फटिक माला पर करें। इसे शुक्ल पक्ष के गुरूवार से ही शुरू करें। तीन महीने तक हर गुरूवार को मंदिर में प्रशाद चढांए और विवाह की सफलता के लिए प्रार्थना करें।


पति को वश में करने के लिए : यह प्रयोग शुक्ल  पक्ष में करना चाहिए। एक पान का पत्ता लें, उस पर चंदन और केसर का पाऊडर मिला कर रखें, फिर दुर्गा माता जी की फोटो के सामने बैठ कर दुर्गा स्तुति में से चँडी स्त्रोत का पाठ 43 दिन तक करें। पाठ करने के बाद चंदन और केसर जो पान के पत्ते पर रखा था, का तिलक अपने माथे पर लगायें, और फिर तिलक लगा कर पति के सामने जाएं। यदि पति वहां पर न हों तो उनकी फोटो के सामने जाएं। पान का पता रोज़ नया लें जो कि साबुत हो कहीं से कटा फटा न हो। रोज़ प्रयोग किए गए पान के पत्ते को अलग किसी स्थान पर रखें। 43 दिन के बाद उन पान के पत्तों को जल प्रवाह कर दें। समस्या का समाधान होगा।


पति पत्नी दोनों के भोजन से कुछ हिस्सा निकाल कर रोज चिड़ियों को देने से आपसी प्रेम बढ़ता है।


यदि पति की नशे की आदत की वजह से दाम्पत्य प्रेम में खलल हो तो घोड़े का पसीना लेकर उसपर दाम्पत्य प्रेम मधुर बनाने का मन्त्र 54 बार पढ़कर हाथों में लगाकर पति को सुंघाने से नशे की आदत छूट जाती है।


पति-पत्नी के कलेश दूर करने के लिये तथा प्रेम की वृद्धि के लिये पति दायें हाथ की अनामिका अंगुलि में हीरा 30 सेंट या सफेद पुखराज पांच रत्ती का शुक्रवार व बृहस्पतिवार को पहने। पत्नी बायें हाथ की अनामिका अंगुलि में पांच रत्ती का मोती चांदी या गोल्ड में सोमवार को पहने।


दाम्पत्य सुख प्राप्त करने लिये बेल के तीन पत्तों पर अपने पति का नाम गोरोंचन हल्दी का घोल बनाकर मोर पंख की कलम से लिख कर चांदी की डिबिया में भर कर माता के चरणों में रख दें जहाँ पत्ते लिये हैं दाम्पत्य सुख प्राप्त होगा।


पति पत्नी के रिश्ते में मधुरता लाने का मंत्र

विधेहि देवी कल्याणं विधेहि परमां श्रियम।
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।।


आपसी प्रेम और हार्मोनी के लिये उपाय करें। पति पत्नी रात को सोते समय कपूर और लाल सिंदूर तकिये के नीचे रखकर सोयें। कपूर को सुबह जला दें और सिंदूर को पूरे घर में छिड़क दें। आपसी प्रेम बढ़ेगा।


नवरात्र की नवमी के दिन स्वेतार्क यानि सफ़ेद मदार का पौधा लाकर घर में लगायें। दिवाली के दिन पौधे की पूजा करें। सफ़ेद मदार के पौधे की पूजा से आपको जरुर लाभ होगा। पति पत्नी के बीच प्यार बढ़ेगा।


पति-पत्नी के बीच वैमनस्यता को दूर करने हेतु : रात को सोते समय पत्नी पति के तकिये में सिंदूर की एक पुड़िया और पति पत्नी के तकिये में कपूर की २ टिकियां रख दें। प्रातः होते ही सिंदूर की पुड़िया घर से बाहर फेंक दें तथा कपूर को निकाल कर उस कमरे जला दें।


पति को वश में करने के लिए : शनिवार की रात्रि में ७ लौंग लेकर उस पर २१ बार जिस व्यक्ति को वश में करना हो उसका नाम लेकर फूंक मारें और अगले रविवार को इनको आग में जला दें। यह प्रयोग लगातार ७ बार करने से अभीष्ट व्यक्ति का वशीकरण होता है।


अगर आपके पति किसी अन्य स्त्री पर आसक्त हैं और आप से लड़ाई-झगड़ा इत्यादि करते हैं। तो यह प्रयोग आपके लिए बहुत कारगर है, प्रत्येक रविवार को अपने घर तथा शयनकक्ष में गूगल की धूनी दें। धूनी करने से पहले उस स्त्री का नाम लें और यह कामना करें कि आपके पति उसके चक्कर से शीघ्र ही छूट जाएं। श्रद्धा-विश्वास के साथ करने से निश्चिय ही आपको लाभ मिलेगा।


यदि इन दिनों प्रेमी या पति का व्यवहार ऐसा हो चला हो, जिसे देख आपको लगता हो कि उनके अंदर आपके लिए प्यार न रहा हो तो किसी शुक्रवार को भगवान कृष्ण को याद करें करते हुए तीन इलायची अपने शरीरी से स्पर्श कराकर अपने पास रख लें। अब शनिवार सुबह इसी इलायची को पीसकर खाने में या चाय में मिलाकर उन्हें पिला दें, ऐसा तीन हफ्ता हर शुक्रवार को करें तो आपको उनके व्यवहार में फर्क नजर आने लगेगा।


किसी को आकर्षित करना हो तो पीली हल्दी, गाय की घी, गौमूत्र, सरसों व पान के रस को मिलाकर एकसाथ पीस लें और फिर इसे शरीर पर लगाएं, इससे स्त्रियां आकर्षित हो जाती हैं।


यदि आपको डर हो कि कहीं आपका प्रेमी बीच रास्ते ही आपको छोड़कर न चल दे तो इसके लिए यह टोटका अपनाएं। नारियल, धतूरे के बीज, कपूर को पीसकर इसमें शहद मिला लें। हर रोज इसी लेप से लेकर तिलक करें, वह आपको छोड़कर कभी नहीं जाएंगे।


यदि पिछले कुछ समय से पति की रुचि पत्नी में कम हो गई हो तो आप दोनों साथ भोजन करें और भोजन के समय चुपके से पत्नी पति के खाने में अपनी थाली से थोड़ा भोजन रख दे। ऐसा करने से पति फिर से पत्नी के प्रति आकर्षित हो जाता है।


ऐसा अक्सर किसी न किसी के साथ होता है कि पति किसी अन्य औरत के करीब आ जाता है। ऐसे में परेशान पत्नी यदि यह उपाय कर ले तो उसका पति उस महिला के कब्जे से बाहर निकल सकता है। गुरुवार को रात 12 बजे चुपके से पति के थोड़े बाल काट लें और फिर इसे जला डालें। इसके बाद जले हुए अवशेष को अपने पैरों से मसल दें, देख लीजिए कि पति कैसे सुधर जाता है।


शुक्ल पक्ष के रविवार को 5 लौंग लें और इसे शरीर में ऐसे स्थान पर रखें, जहां पसीना आता हो। इसके बाद उस लौंग को सुखा लें और चूर्ण बना लें। फिर यही चूर्ण किसी भी चीज में मिलाकर उन्हें पिला दी जाए तो आपके प्रति उनका आकर्षण बना रहेगा।


किसी स्त्री को अपनी ओर आकर्षित करना हो तो काकजंघा, तगर, केसर इन सबको मिलाकर पीस लें और इसे उस स्त्री के मस्तक पर तथा पैर के नीचे डाल दें, वह आपकी दीवानी हो जाएगी।


पत्नी बीमार हो तो गोदान करें। जिस घर में स्त्रीवर्ग को निरन्तर स्वास्थ्य की पीड़ाएँ रहती हो, उस घर में तुलसी का पौधा लगाकर उसकी श्रद्धापूर्वक देखशल करने से रोग पीड़ाएँ समाप्त होती है।


डिस्‍क्‍लेमर : कुछेक प्रयोग लेखक द्वारा किए गए हो सकते हैं, लेकिन अधिकांश प्रयोग या तो लोक मानस में बसे हुए प्रयोग हैं तो कुछ प्रयोग तंत्र साहित्‍य की पुस्‍तकों से भी लिए गए हैं। समय समय पर इन प्रयोगों ने जातकों को धन की समस्‍या से मुक्‍त होने में मदद की है। आप भी इन सरल प्रयोगों को अपने स्‍तर पर कर सकते हैं, लेकिन लेखक किसी भी प्रयोग को लेकर किसी प्रकार का दावा नहीं करता है। आप जो भी प्रयोग करें, अपने स्‍तर पर अपने निर्णय से करें।