केन्‍द्रीय कैबिनेट मंत्री उमा भारती (Uma Bharti) का जन्‍म 3 मई 1959 को हुआ है, लेकिन इनका सही सही जन्‍म समय उपलब्‍ध नहीं है। ऐसे में इस बार फिर हमें तात्‍कालिक प्रश्‍न पद्धति से ही उमा भारती के इस साल के भविष्‍यफल को देखना होगा।

तात्‍कालिक प्रश्‍न के हिसाब से उमा भारती को आठ अंक मिलता है। ऐसे में इस साल न केवल उनके खर्च और विदेश यात्राओं में बढ़ोतरी होगी, बल्कि स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी विकार भी बढ़ेंगे। उन्‍हें अपने काम को निर्बाध जारी रखने के लिए स्‍वास्‍थ्‍य पर विशेष ध्‍यान देने की जरूरत है।

उमा भारती को अगर अस्‍पताल में भर्ती होना पड़ता है तो इससे उनके चल रहे काम काज पर तेजी से विपरीत असर पड़ेगा। स्‍वास्‍थ्‍य का कोण अच्‍छा रहने की सूरत में न केवल उनके मंत्रालय और निजी स्‍तर पर किए जाने वाले खर्च में बढ़ोतरी होगी, बल्कि विदेश यात्राओं के कई अवसर बनेंगे। फिलहाल उमा भारती के पास जल संसाधन मंत्रालय है। इस मंत्रालय के तहत कई महत्‍वपूर्ण योजनाएं तेजी से चल रही हैं। इनमें खर्च बढ़ने का अनुमान है।

इस साल मानसिक तनाव के इतर भोज्‍य पदार्थ के जरिए उनके बीमार होने और अस्‍पताल में भर्ती होने की आशंका बहुत अधिक है। ऐसे में उन्‍हें ग्रहण किए जाने वाले भोज्‍य पदार्थों के प्रति बहुत अधिक सावधान रहने की जरूरत है। इसके साथ ही उपचार के तौर पर भी उन्‍हें भोज्‍य पदार्थों का नियमित रूप से दान करना चाहिए, इससे उनका बचाव होता रहेगा।

फलादेश निर्णय के तौर पर इस साल उमा भारती का भाग्‍य प्रबल है, स्‍वास्‍थ्‍य कमजोर है, विदेश यात्राएं होंगी और भोजन में सात्विकता कम होने से अस्‍पताल में भर्ती होने के योग हैं।